loader
totle_img
  • कालसर्प पूजा

कालसर्प पूजा

जन्म कुंडली में जब सभी ग्रह राहु और केतु के एक ही और स्िथत हों तो ऐसी ग्रह स्थिती को कालसर्प योगकहते है। कालसर्प योग एक कष्ट कारक योग है। राहु के गुण -अवगुण शनि जैसे हैं ।राहु जिस स्थान में जिस ग्रह के योग में होगा, उसका व शनि का फल देता है।

और पढ़ें
totle_img
  • नारायण नागबली

नारायण नागबली

नारायण नागबलि( पितृ दोष ) ये दोनो विधी मानव की अपूर्ण इच्छा , कामना पूर्ण करने के उद्देश से किय जाते है इसीलिए ये दोने विधी काम्यू कहलाते है। नारायणबलि और नागबपलि ये अलग-अलग विधीयां है। नारायण बलि का उद्देश मुखत: पितृदोष निवारण करना है ।

और पढ़ें
totle_img
  • रूद्र अभिषेक पूजा

रूद्र अभिषेक पूजा

रुद्र अभिषेक जहां पंचामृत पूजा मंत्रोच्चारण के साथ त्र्यंबकेश्वर भगवान को अर्पण किया जाता है इससे उस व्यक्ति की सभी मनोकामना पुर्ण होती है। तथा नकारात्मक छटा का नाश और जीवन में सभी ओर खुशी मिलती है

और पढ़ें

विनम्र प्रार्थना

यह उन सभी भक्तों से विनम्र निवेदन है जो किसी भी प्रकार की पूजा त्र्यंबकेश्वर में करना चाहते हैं ताकि पुरोहित संघ से अधिकृत ब्राह्मणों से पूजा करवाई जाए। कई पीढ़ियों से ब्राह्मण पूजा कर रहे हैं। स्थानीय ब्राह्मण आपको कभी भी पहले से Daxina का भुगतान करने के लिए नहीं कहेंगे। अन्य बाहरी ब्राह्मण आपको लगातार कॉल कर सकते हैं और पूजा और प्रक्रिया के बारे में आपको भ्रमित कर सकते हैं। आप स्थानीय ब्राह्मणों को वहाँ की वेब साइट पर, पुरोहित संघ के लोगो के ऊपर कार्ड या नेम प्लेट पर पहचान कर सकते हैं। वे आपको ठीक से मार्गदर्शन करेंगे और त्र्यंबकेश्वर परंपरा के अनुसार पूजा करेंगे।

about_img

होर्स्कोप ने परमेश्वर की इच्छा को पूरा किया

पंडित कौशिक विजय अकोलकर पंडित कौशिक विजय अकोलकर त्र्यंबकेश्वर मे रहते है । पंडित संपूर्ण पूजाविधी शास्त्रोक्त और वेदोक्त तरीकेसे करवा लेते है । ब्रम्ह, विष्णु, महेश विशेष रूप से एक ही स्थान पर है ,इसीलिए एक महत्वपूर्ण स्थान है। त्रिम्बकेश्वर यह १२ ज्योतिर्लिंगो मेसे १० व स्वयंभू ज्योतिर्लिंग है। पंडितजी यहापे कालसर्प पूजा, त्रिपिंडी श्राद्ध , नारायण नागबली, नक्षत्र शांती , रुद्राभिषेक, लघुरुद्र और इतर विधी शास्त्रोक्त पद्धतीने करते है। भारत अनेक रिती-रिवाज और परंपराओं का देश है।

संपर्क करें

+91-9011133545

स्टॉप स्व-सुरक्षा: उपयोग शून्य पर अपना जीवन वापस पाने के लिए राशि चक्र

हम सभी पूजा जन्मकुंडली के अनुसार करतें हैं , कृपया अपने साथ जन्मकुंडली लाएं|

अहाना वोहर

आहना वोहरा की बेटी (हेमा मालिनी) ने पंडित कौशिकजी द्वारा किया काल सर्प पूजा

श्री राजीव शुक्ला

Bcci के चेयरमैन और संसद सदस्य श्री राजीव शुक्ला ने पंडित कौशिकजी से त्र्यंबकेश्वर में कालसर्प पूजा की

श्री शिवराजसिंह चौहान

श्रीशिवराजसिंह चौहान * सेमी * (मध्याह्न पूर्व) ने पंडित कौशिक जी अकोलकर से त्र्यंबकेश्वर मंदिर में 3 बार अभिषेक पूजा की।

पूजा विधि

हम सभी पूजा जन्मकुंडली के अनुसार करतें हैं , कृपया अपने साथ जन्म

हस्तरेषा तज्ञ

अनेक संस्कृती खगोलशास्त्रीय घटनाओंको महत्त्व देता है| उनमेसे भारतीय, चीनी आणि मयान संस्कृतियों ने दिव्य निरीक्षणसे ऐहिक घटनांओंका

और पढो

नवचंडी पूजा

नवचंडी यज्ञ एक नव दुर्गा पूजा है। इस पूजा को स्वास्थ्य, धन, शक्ति, समृद्धि, सफलता और कई अन्य कारणों के लिए किया जाता है। नव चंडी यज्ञ सभी

और पढो

वास्तु शांती पूजा

वास्तु का अर्थ मनुष्यों और देवताओं का निवास होता है| वास्तु शास्त्र एक प्राचीन विज्ञान है| वास्तु शास्त्र ब्रह्मांड के तत्वों द्वारा दिये गये लाभ मिलने

और पढो

नवग्रह शांती पूजा

वेदों और शास्त्रों के अनुसार वहाँ कई ग्रहों और सितारों हैं लेकिन केवल नौ (एनएवी = 9) ग्रहों (गृह) और सौर प्रणाली की तत्काल परिधि में

और पढो

नक्षत्रशांती पूजा

Nakshatra Shanti pooja is performed every year on the birth nakshtra to give protection and better results .

और पढो

उदक शांती पूजा

उदक शान्ति पूजा किसी भी शुभ परिणाम की तलाश या कोई वित्तीय समस्या हो या घर पर, काम पर तनाव, स्वास्थ्य के लिए कि जाती है| यह

और पढो

नवग्रह शांती पूजा

इस एक मंत्र के कई नाम और रूप है। इसे रुद्र मंत्र भी जाता है। ये शिव के उग्र पहलू को दर्शाता है। त्र्यंबक मंत्र,शिव के तीन आँखों को दर्शाता

और पढो

रूद्र अभिषेक पूजा

अभिषेक का अर्थ होता है स्नान करना या कराना। रुद्र अभिषेक जहां पंचामृत पूजा मंत्रोच्चारण के साथ त्र्यंबकेश्वर भगवान को अर्पण किया जाता

और पढो
25
लाख ग्राहकों द्वारा पर भरोसा किया
10
वर्षों का अनुभव
45
राशि भविष्य
99
योग्य ज्योतिषी
89
सफलता राशिफल


हमारी अन्य सेवाएँ

हम सभी पूजा जन्मकुंडली के अनुसार करतें हैं , कृपया अपने साथ जन्

totle_img

नाशिक कुंभमेला

कुंभ मेला भारत का पवित्र त्योहारों में से एक है और एक बड़े पैमाने पर आयोजित किया जाता है। विद्वानों के अनुसार, माना गया है कि, जब

और पढो
totle_img

त्रिम्बकेश्वर

त्रिम्बकेश्वर यह त्रिंबक शहर में एक प्राचीन हिंदू मंदिर है, यह भारत मे महाराष्ट्र राज्य के नासिक शहर से 2८ किमी दुर है| यह मंदीर भगवान शिव

और पढो
totle_img

विष्णु बली पूजा

विष्णु बाली पूजा को नारायण नागबली के रूप में भी जाना जाता है, जो त्र्यंबकेश्वर, नासिक में किया जाने वाला एक तीन दिवसीय अनुष्ठान है।

और पढो

मदद चाहिए संपर्क करें

यह पूजा तब की जाती है जब सभी ग्रह राहु और केतु के बीच आते हैं या जब भाग्य के सभी सितारे या जब किसी कुंडली में फॉर्च्यून के सभी सितारे एक ही स्थिति पर ध्यान केंद्रित करते हैं

+91-9011133545
02594-233231

157, अकोलकर वाडा, मेन रोड, त्र्यंबकेश्वर, नाशिक - 422212